Breaking :
||मोदी 3.0: मोदी सरकार में मंत्रियों के बीच हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे मिला कौन सा मंत्रालय||गढ़वा: प्रेमी ने गला रेतकर की प्रेमिका की हत्या, शादी का बना रही थी दबाव, बिन बयाही बनी थी मां||मैक्लुस्कीगंज में फायरिंग व आगजनी मामले में पांच गिरफ्तार, ऑनलाइन जुआ खेलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सात गिरफ्तार||पलामू में शैक्षणिक संस्थानों के 100 मीटर के दायरे में 60 दिनों के लिए निषेधाज्ञा लागू, जानिये वजह||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच तेज||पलामू: संदिग्ध हालत में स्कूल में फंदे से लटका मिला प्रधानाध्यापक का शव, हत्या की आशंका||लातेहार: तालाब में डूबे बच्चे का 24 घंटे बाद भी नहीं मिला शव, तलाश के लिए पहुंची NDRF की टीम||मुख्यमंत्री चंपाई सोरेन ने आलमगीर आलम से लिए सभी विभाग वापस||पलामू: कोयला से भरा ट्रक और बीड़ी पत्ता लदा ऑटो जब्त, पांच गिरफ्तार, दो लातेहार के निवासी||लातेहार: नहाने के दौरान तालाब में डूबने से दस वर्षीय बच्चे की मौत, शव की तलाश में जुटे ग्रामीण
Thursday, June 13, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

बाबूलाल मरांडी ने DGP को लिखा पत्र, PA सुनील तिवारी की जानमाल की सुरक्षा का अनुरोध

रांची : भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी ने निजी सलाहकार सुनील तिवारी और उनके परिवार की जानमाल की सुरक्षा के लिए डीजीपी अजय कुमार सिंह को मंगलवार को एक पत्र लिखा है। इसमें कहा है कि सुनील तिवारी पर खतरा एवं राजनैतिक दुर्भावनापूर्ण बदले की कार्रवाई की आशंका है। उन्होंने अभी हाल में मोबाइल पर बातचीत में इस संबंध में डीजीपी को जानकारी दी थी।

सुनील तिवारी द्वारा 11 सितंबर को मुख्य सचिव को किए गये मेल का जिक्र करते बाबूलाल ने कहा कि विषयवस्तु गंभीर है। हाल के कई ऐसे मामलों के उदाहरण सामने हैं, जिसमें पुलिस को खतरे की आशंका की लिखित सूचना के बाद भी कुछ नहीं किया गया। प्रभावित व्यक्ति की हत्या हो गयी। डीजीपी से अनुरोध करते कहा कि सुनील तिवारी के मामले में गंभीरता से संज्ञान लें। उनके और उनके परिवार की जानमाल की सुरक्षा सुनिश्चित करने के साथ ही राजनैतिक बदले की भावना से पुलिस कोई पीड़क कार्रवाई नहीं करे, इसका ख्याल रखें।

बाबूलाल के मुताबिक साहिबगंज खनन घोटाला के खिलाफ एफआईआर के लिए थाने में लिखकर देने वाले अनुरंजन अशोक को भी पांच दिन पहले मोबाइल पर जान से मारने की धमकी देने और अनुरंजन के डोरंडा थाना में शिकायत करने की खबर अखबारों में देखने को मिली है। डीजीपी पुलिस के मुखिया हैं। नियमानुसार उनकी यह जिम्मेदारी है कि राज्य में अमन चैन कायम रहे। पुलिस कानून के आधार पर काम करे। सत्ता पोषित या कोई दूसरे गुंडे-मवाली राज्य में उत्पात नहीं मचाए। राजनैतिक द्वेष से किसी के खिलाफ पुलिस कोई फर्जी पीड़क कार्रवाई न करे। यही वजह है कि उच्च न्यायालय को पुलिस की पूर्वाग्रह पूर्ण कार्यशैली के चलते ऐसे कई मामले जांच के लिए सीबीआई के हवाले करना पड़ा।