Breaking :
||झारखंड में भीषण गर्मी से मिलेगी राहत, 20 जून तक मानसून करेगा प्रवेश||पलामू: बालिका गृह में दुष्कर्म पीड़िता की बहन की मौत, मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में हुआ पोस्टमार्टम||सतबरवा प्रखंड के रैयतों ने सांसद से की मुलाकात, उचित मुआवजा दिलाने की मांग||पलामू में तीन अलग-अलग सड़क हादसों में तीन की मौत, नेतरहाट घूमने जा रहा एक पर्यटक भी शामिल||केंद्रीय मंत्री शिवराज व असम के मुख्यमंत्री हिमंता झारखंड विधान सभा चुनाव में भाजपा का करेंगे बेड़ापार||झारखंड में पांच नक्सली ढेर, एक महिला नक्सली समेत दो गिरफ्तार, हथियार बरामद||अब स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग स्कूली बच्चों को नशीले पदार्थो के सेवन से होने वाले दुष्प्रभावों के बारे में करेगा जागरूक||लातेहार: बालूमाथ में अनियंत्रित बाइक दुर्घटनाग्रस्त, दो युवक घायल, सांसद ने पहुंचाया अस्पताल, दोनों रिम्स रेफर||15 ऐसे महत्वपूर्ण कानून और कानूनी अधिकार जो हर भारतीय को जरूर जानने चाहिए||लातेहार में तेज रफ्तार बोलेरो ने घर में सो रहे पांच लोगों को रौंदा, एक की मौत, चार रिम्स रेफर
Tuesday, June 18, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामू प्रमंडललातेहार

लातेहार: पुलिस व माओवादी के बीच मुठभेड़, बंकर ध्वस्त, सामान बरामद

लातेहार जिला अंतर्गत बूढ़ा पहाड़ में अभियान के दौरान पुलिस और नक्सलियों के बीच सोमवार को मुठभेड़ हुई. मुठभेड़ सुबह छह बजे से नौ बजे तक चली. इस दौरान पुलिस और नक्सलियों की तरफ से काफी मात्रा में गोली-बारी की गयी. बूढ़ा पहाड़ में हुए मुठभेड़ के गोली की आवाज बूढ़ा पहाड़ से सटे कुजरूम गांव तक सुनायी पड़ी. मुठभेड़ के बाद पुलिस ने सर्च अभियान चलाया, जिसमें सुरक्षा बलों ने नक्सलियों का एक बंकर ध्वस्त किया गया है. पुलिस ने इस बंकर से काफी मात्रा में नक्सलियों का खाने-पीने का सामान बरामद किया है.

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

लातेहार एसपी ने मुठभेड़ की पुष्टि की

लातेहार एसपी अंजनी अंजन ने मुठभेड़ की पुष्टि करते हुए बताया कि माओवादियों के खिलाफ बूढ़ा पहाड़ को खाली कराने के लिए अभियान चलाया जा रहा है. इस अभियान के दौरान सोमवार को पुलिस को कई सफलता मिली है. पुलिस ने बूढ़ा पहाड़ के इलाके में नक्सलियों द्वारा बनाये गये एक बंकर को ध्वस्त किया है. उन्होंने बताया कि बंकर में काफी मात्रा में सामना रखा हुआ था जिसे पुलिस ने बरामद किया है.

झारखंड-छत्तीसगढ़ सीमा पर अवस्थित है बूढ़ा पहाड़

झारखंड-छत्तीसगढ़ सीमा पर स्थित बूढ़ा पहाड़ का क्षेत्र 55 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है. बूढ़ा पहाड़ झारखंड के लातेहार और गढ़वा तथा छत्तीसगढ़ के बलरामपुर से सटा क्षेत्र है जो माओवादियों का सुरक्षित ठिकाना रहा है. बूढ़ा पहाड़ को माओवादियों से मुक्त कराना सुरक्षा बलों के लिए बड़ी चुनौती है. माओवादियों ने वर्ष 2013-14 में बूढ़ा पहाड़ को अपना मुख्यालय बनाया था. एक करोड़ के इनामी दिवंगत माओवादी कमांडर अरविंद ने बूढ़ा पहाड़ को अपना मजबूत ठिकाना बनाया था.

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

नक्सलियों के चंगुल से मुक्त करने तक बूढ़ा पहाड़ पर अभियान रहेगा जारी

इधर, सुरक्षा बलों ने बूढ़ा पहाड़ को नक्सलियों से मुक्त कराने को लेकर लगातार अभियान चला रही है. इस अभियान के तहत सोमवार को पुलिस-नक्सली मुठभेड़ हुई. पुलिस अधिकारियों का कहना है कि जब तक नक्सलियों के चंगुल से इसे मुक्त नहीं कराया जाता, तब तक अभियान जारी रहेगा.