Breaking :
||लोहरदगा में हथियार के साथ एक गिरफ्तार, एक भागने में सफल, भारी मात्रा में हथियार व गोलियां बरामद||सीएम हेमंत सोरेन का ऐलान, नेतरहाट फील्ड फायरिंग रेंज होगी रद्द, ग्रामीण 30 साल से कर रहे थे आंदोलन||कोलकाता हाईकोर्ट ने कांग्रेस के तीनों विधायकों को दी सशर्त अंतरिम जमानत||लातेहार: फिर एक महिला ने इलाज के बहाने डॉक्टर पर लगाया छेड़खानी का आरोप||बिहार में नीतीश कैबिनेट का विस्तार, 31 मंत्रियों ने ली शपथ, तेज प्रताप फिर बने मंत्री||DGP नीरज सिन्हा ने कहा- पिछले तीन साल में 1,526 नक्सली गिरफ्तार, 51 मारे गये||जम्मू-कश्मीर में जवानों से भरी बस खाई में गिरी, 7 जवान शहीद, 32 घायल, राष्ट्रपति ने व्यक्त की संवेदना||JPSC के पूर्व अध्यक्ष IPS अमिताभ चौधरी का हार्ट अटैक से निधन||लातेहार: पीटीआर के गारू पूर्वी वन क्षेत्र में हाथी की मौत, पोस्टमार्टम के लिए पहुंची मेडिकल टीम||पलामू में बिजली गिरने से तीन किशोर की मौत, बारिश से बचने के लिए पेड़ के नीचे छिपे थे

अब शराब पीने से हुई मौत तो 5 से 10 लाख मुआवजा देगी सरकार, झारखंड उत्पाद विधेयक सदन से पारित

'

रांची : झारखंड उत्पाद संशोधन विधेयक 2022 आज विधानसभा में पारित हो गया। इस बिल पर माले विधायक बिनोद सिंह और लम्बोदर महतो ने सवाल उठाए और बिल को सेलेक्ट कमेटी को भेजने की मांग की। विनोद सिंह ने कहा, अवैध और मिलावटी शराब पीने से मरने वालों को कोर्ट से 5 से 10 लाख का मुआवजा मिलेगा, जो सही नहीं है। जो अधिकारी 20 लीटर से कम शराब बनाने वालों को अपने विवेक के अनुसार पकड़ लेते हैं, वे उस व्यक्ति को रिहा कर सकते हैं या जेल भेज सकते हैं। ऐसे में वे सौदेबाजी करेंगे। मेरी मांग है, न्यूनतम राशि तय करें।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

डॉ. लम्बोदर महतो ने पूर्ण शराबबंदी की मांग के लिए प्रवर समिति को भेजने का आग्रह किया। कहा कि शराब की दुकानों में काम करने वाले कर्मचारियों को 3 महीने से मानदेय नहीं मिला है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

प्रभारी मंत्री आलमगीर आलम ने कहा कि यह बिल शराब कारोबार से जुड़े बेगुनाह लोगों को बचाने के लिए लाया गया है। इस विधेयक के संशोधन से राज्य में शराब के अवैध निर्माण पर भी अंकुश लगेगा।