Breaking :
||पलामू में जन वितरण प्रणाली दुकानदार की गोली मारकर हत्या, पुलिस कर रही जांच||लातेहार: युवक हत्याकांड का खुलासा, भाभी ने ही करा दी देवर की हत्या, दो आरोपी गिरफ्तार||थर्ड रेल लाइन निर्माण कार्य में लगी कंपनी के साइट पर नक्सलियों का उत्पात, फायरिंग कर जेसीबी में लगायी आग||दुर्गा पूजा पर आयोजित कार्यक्रम देख लौट रही नाबालिग से सामूहिक दुष्कर्म||हजारीबाग: तीर्थयात्रियों से भरे बस और ट्रक की सीधी टक्कर में 4 की मौत, 30 घायल||लातेहार: ढाबा चलाने की आड़ में अफीम व डोडा पाउडर बेचने के आरोप में ढाबा संचालक गिरफ्तार||रांची: गैस रिफिलिंग की दुकान में रखे सिलेंडर में हुए विस्फोट से चार दुकानें जलकर राख||चतरा में पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़, भारी मात्रा में सामान और हथियार बरामद||लातेहार: दशहरा व दुर्गा पूजा को लेकर मिठाई व फास्ट फूड दुकानों की हुई जांच, पांच दुकानों पर कार्रवाई, लगा जुर्माना||पलामू सिविल सर्जन 50 हजार रुपये की रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार, बिल भुगतान के एवज में मांगी थी रिश्वत

अब झारखंड के प्राथमिक विद्यालयों में कक्षाएं संचालित करने में स्थानीय युवाओं की मदद लेगी सरकार

'

रांची : झारखंड के 7 हजार प्राथमिक विद्यालयों में कक्षाएं संचालित करने के लिए सरकार स्थानीय युवाओं की मदद लेगी। इन सभी विद्यालयों में एक शिक्षक के आधार पर कक्षा 1 से 5 तक संचालित की जाती है। जिससे बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है। इससे संबंधित शिक्षा परियोजना ने सभी जिलों के डीईओ और डीएसई को पत्र लिखा है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

पत्र में कहा गया है कि प्रदेश के सात हजार एकल शिक्षक विद्यालयों में विद्यालय प्रबंधन समिति एवं शिक्षित युवाओं का सहयोग लिया जाए। ताकि कक्षा का संचालन बेहतर तरीके से हो सके। इसके लिए स्कूल प्रबंधन समिति जागरूकता अभियान चलाएगी।

यह व्यवस्था पूरी तरह से गैर वित्तीय होगी और स्कूल प्रबंधन समिति के सहयोग से चलाई जाएगी। जिलों को भेजे गए पत्र में कहा गया है कि उच्च वर्ग के छात्र अपने से नीचे की कक्षा के बच्चों की पढ़ाई में मदद कर सकते हैं। इसके लिए स्कूल स्तर पर छात्रों की सूची तैयार करने को कहा गया है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

यह संबंधित छात्र की सहमति पर आधारित होगा। ऐसे छात्रों को स्कूल स्तर पर सम्मानित करने और वार्षिक रिपोर्ट कार्ड में इसका उल्लेख करने को कहा गया है। कक्षा एक से पांच तक के छात्रों को कक्षा छह से आठ तक के छात्र और कक्षा छह से आठ के छात्रों को कक्षा नौ और दस के छात्रों द्वारा सहयोग किया जा सकता है।