Breaking :
||पलामू में बिजली गिरने से तीन किशोर की मौत, बारिश से बचने के लिए पेड़ के नीचे छिपे थे||रांची में करंट लगने से एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत, तिरंगा लगाने के दौरान हुआ हादसा||15 अगस्त को झारखंड के 26 पुलिसकर्मियों को विभिन्न सेवाओं के लिए मेडल||रांची में नकली नोटों के तस्कर को पकड़ने गई दिल्ली पुलिस पर ग्रामीणों ने किया हमला, बनाया बंधक||झारखंड जल्द होगा सूखाग्रस्त घोषित, सभी मापदंडों पर तैयार हो रही रिपोर्ट||लातेहार: विद्यालय से उर्दू शब्द हटाए जाने पर मुस्लिम समुदाय में आक्रोश, किया प्रदर्शन||मुख्य धारा में लौटे नक्सलियों के सम्मान समारोह में अधिकारियों ने कहा- सरकार की सेरेंडर पॉलिसी का लाभ उठाएं नक्सली||लातेहार : खेत में धान बो रहे किसान पर गिरी बिजली, पति-पत्नी की मौके पर ही मौत||झारखंड भाजपा को मिलेगा नया प्रदेश अध्यक्ष, नियुक्ति को लेकर कई नामों पर चर्चा||अब झारखंड के बिजली उपभोक्ताओं को मिलेगी 100 यूनिट मुफ्त बिजली

टोरी रेलवे क्रॉसिंग पर जाम में फंसने से रेल चालक की मौत!

'

सामाजिक कार्यकर्ता अयूब खान की रिपोर्ट :

लातेहार : चंदवा टोरी रेलवे क्रॉसिंग के जाम में फंसकर रेल ड्राइवर मंटु लाल उरांव (57 वर्ष) पिता स्व राधा उरांव की मौत पिछले 10 दिसंबर को हो गई थी। मृतक चंदवा प्रखंड के सदाबर (नगर) के निवासी थे। वे हावड़ा (कोलकाता) में 5 वर्षोंं से रेलवे में ड्राइवर के पद पर पदस्थापित थे।

बता दें कि विगत 10 दिसंबर को मंटु लाल उरांव के सीने में हल्का दर्द उठा। इसके बाद उनके परिजन उन्हें बोलेरो गाड़ी से इलाज के लिए चंदवा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले जा रहे थे। इसी क्रम में उनकी गाड़ी टोरी रेलवे क्रॉसिंग पर जाम में फंस गई। करीब आधे घंटे तक जाम में फंसे रहने के दौरान उन्हें सांस लेने में परेशानी होने लगी और उनके साँसों की डोर टूटने लगी। जाम खुलने के बाद जब उन्हें चंदवा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया तो चिकित्सकों ने जांच के बाद उन्हें मृत घोषित कर दिया।

रेल ड्राइवर स्व मंटु लाल उरांव जाम में नहीं फंसते तो समय पर अस्पताल पहुंच जाते और उन्हें ऑक्सीजन मिल जाती जिससे उनकी जान बच जाती। परिजनों को आज भी यह मलाल है कि क्रॉसिंग जाम में मंटु नहीं फंसता तो उसे अस्पताल में ऑक्सीजन मिल जाती और उसे बचा लेते।

इधर, सामाजिक कार्यकर्ता सह माकपा नेता अयुब खान ने कहा है कि टोरी रेलवे क्रॉसिंग पर लगाने वाले जाम के कारण मरीज समय पर अस्पताल नहीं पहुंच पा रहे हैं जिस कारण मरीजों की मौत क्रॉसिंग पर लगातार हो रही है। रेलवे ओवरब्रिज का निर्माण कार्य नहीं होने के कारण मरीज अपनी जान गंवा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार, केंद्र सरकार, रेल मंत्रालय और कितनी मौत होने का इंतजार कर रही है। लोगों को यह भय हमेशा सताती है कि कब कौन बिमार पड़ जाए और क्रॉसिंग पर जाम में फंस जाएं।

मंटु लाल उरांव अच्छे स्वभाव के थे। उनके निधन से इलाके में शोक की लहर दौड़ गई है। वे अपने पीछे भरा पूरा परिवार छोड़ गए हैं।

रेल ड्राइवर मंटु लाल उरांव के निधन पर सामाजिक कार्यकर्ता अयुब खान ने गहरा शोक व्यक्त करते हुए उनके परिजनों शुभचिंतकों के प्रति संवेदना प्रकट की है।


Leave a Reply

Your email address will not be published.