Breaking :
||बंद औद्योगिक इकाइयों को पुनर्जीवित करेगी राज्य सरकार : मुख्यमंत्री||आर्थिक तंगी के कारण कोई भी छात्र उच्च एवं तकनीकी शिक्षा से न रहे वंचित: मुख्यमंत्री||झारखंड में मानसून की आहट, भारी बारिश का अलर्ट जारी||बड़गाईं जमीन घोटाले में ED की बड़ी कार्रवाई, जमीन कारोबारी के ठिकाने से एक करोड़ कैश और गोलियां बरामद||पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के सेक्शन अधिकारी समेत दो रिश्वत लेते गिरफ्तार||सतबरवा में कपड़ा व्यवसायी के बेटे और बेटी के अपहरण का प्रयास विफल, लातेहार की ओर से आये थे अपहरणकर्ता||लातेहार: एनडीपीएस एक्ट के दोषी को 15 वर्ष का कठोर कारावास और 1.5 लाख रुपये का जुर्माना||लातेहार सिविल कोर्ट में आपसी सहमति से प्रेमी युगल ने रचायी शादी||लातेहार: किड्जी प्री स्कूल के बच्चों ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर किया योगाभ्यास||किसानों की समृद्धि से राज्य की अर्थव्यवस्था को मिलेगी मजबूती : मुख्यमंत्री
Saturday, June 22, 2024
झारखंडरांची

झारखंड में 7 जनवरी से शुरू होगी लातेहार समेत 12 जिलों में RT-PCR लैब के साथ कोरोना की जांच

रांची : राज्य के 12 जिलों में स्थापित आरटी-पीसीआर लैब में सात जनवरी से कोरोना की जांच शुरू होगी. स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना के नए वैरिएंट बीएफ-7 से निपटने के लिए संबंधित सिविल सर्जनों को इन जिलों में आरटी-पीसीआर जांच शुरू करने के निर्देश दिए हैं।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

अभी तक इन जिलों के सैंपल अन्य जिलों के मेडिकल कॉलेज या सदर अस्पताल में जांच के लिए भेजे जाते थे, जहां पहले लैब स्थापित हो चुकी थी। जिन जिलों में 7 जनवरी से जांच शुरू करने के निर्देश दिए गए हैं उनमें गढ़वा, गिरिडीह, चतरा, लातेहार, लोहरदगा, जामताड़ा, पाकुड़, कोडरमा, खूंटी, रामगढ़, सिमडेगा और सरायकेला-खरसावां शामिल हैं।

इमरजेंसी कोविड रिस्पांस पैकेज-2 के तहत केंद्र से मिले फंड से इन जिलों में आरटी-पीसीआर लैब स्थापित की गयी हैं। प्रत्येक लैब की स्थापना पर 30-30 लाख रुपए खर्च किये गये हैं। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने 26 दिसंबर को कोरोना को लेकर उच्च स्तरीय बैठक में इन जिलों में जल्द जांच शुरू करने के निर्देश दिये थे।

इस निर्देश के आलोक में स्वास्थ्य विभाग के संयुक्त सचिव सह अपर अभियान निदेशक विद्यानन्द शर्मा पंकज ने इन 12 जिलों के सिविल सर्जनों को पत्र भेजकर कहा है कि देश में कोरोना का नया वैरिएंट बीएफ-7 आने से पहले ही राज्य के सभी जिलों में आरटी-पीसीआर जांच बेहद जरूरी है, ताकि ओपीडी में आने वाले संदिग्ध मरीजों की जांच की जा सके और समय पर संक्रमित की पहचान की जा सके।