Breaking :
||सीएम हेमंत सोरेन की नहीं होगी गिरफ्तारी, ईडी के पास कोई पुख्ता सबूत नहीं||झारखंड से कोरोना की विदाई, सभी जिले कोरोना मुक्त घोषित||झारखंड: प्रमाण पत्र सत्यापन नहीं कराने वाले सहायक अध्यापक होंगे कार्यमुक्त||झारखंड में Suo-Moto Online Mutation की ऐतिहासिक शुरुआत, अब जमीन रजिस्ट्री के बाद म्यूटेशन के लिए नहीं देना पड़ेगा आवेदन||झारखंड प्रशासनिक सेवा के 14 अधिकारियों को मिली अपर सचिव के पद पर पदोन्नति||लातेहार: कब्र से निकाले गये शव की गुत्थी महुआडांड़ पुलिस ने सुलझाया, सास, ससुर व साले ने पीट-पीटकर की थी हत्या||लातेहार: आदिवासी मुख्यमंत्री के कार्यकाल में आदिवासी की मौत के बाद नहीं मिली एंबुलेंस, ठेले पर ले गया शव||पलामू में भाकपा माओवादी के सब जोनल कमांडर नारायण यादव गिरफ्तार||चतरा में भाकपा माओवादी के एरिया कमांडर ने किया पुलिस के सामने सरेंडर||लातेहार: सात दिन पूर्व दफनाये गये शव को महुआडांड़ पुलिस ने कब्र से निकलवाया, हत्या की आशंका

TSPC के जोनल कमांडर ने किया खुलासा, बालूमाथ के कोयला कारोबारी के हत्या की थी योजना

TSPC zonal commander

रांची : टीएसपीसी का जोनल कमांडर भीखन गंझू रांची के कोकर के ढेलटोली में उग्रवादियों के लिए बसेरा बना रहा था। इस संबंध में उन्होंने राहुल मुंडा के नाम करीब डेढ़ करोड़ रुपए की वसूली कर 16 कट्टे जमीन खरीदी थी। वहीं रांची निवासी बालूमाथ के एक कोयला कारोबारी के हत्या की भी योजना थी। पुलिस की जांच में इसका खुलासा हो गया है।

राहुल के नाम पर उसने जमीन इसलिए खरीदी थी कि पकड़े जाने के बाद भी जहां पुलिस को उस संपत्ति नजर न जाए, शहरी इलाके में ठिकाना बनाने के पीछे उसका मकसद उग्रवादी घटनाओं को अंजाम देकर अपने साथियों के साथ यहां शरण लेना था। भीखन स्वयं उसी भूमि पर एक छोटा सा घर बनाकर रह रहा था। वहीं से उसे गिरफ्तार भी कर लिया गया।

पुलिस जांच में यह भी साफ हो गया है कि जोनल कमांडर अपने साथियों के साथ रांची निवासी बालूमाथ के एक कोयला कारोबारी की हत्या करने वाला था। हत्या रांची में प्रस्तावित होली मिलन समारोह के दौरान की जानी थी। भीखन ने उससे लेवी की मांग की, लेकिन उसने देने से इनकार कर दिया था। इससे नाराज भीखन ने संगठन की ओर से उग्रवादी रोशन उरांव उर्फ ​​दशरथ उरांव को एके 47 दे दी, लेकिन उससे पहले भीखन को गिरफ्तार कर लिया गया।

झारखंड के अलग-अलग जिलों में भीखन के पास करीब 60 एकड़ जमीन है। वह हर महीने औसतन 20 से 40 लाख रुपये वसूल करता था। ताज मियां, जानकी महतो, श्रवण और बबलू मुंडा इस संग्रह में भीखन की मदद करते थे। चतरा और रांची में भीखन पर हत्या और लेवी वसूली के 26 मामले अलग-अलग थानों में दर्ज हैं।

TSPC zonal commander