Breaking :
||पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की जमानत याचिका पर कल होगी सुनवाई||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, शादी समारोह से लौट रही कार पेड़ से टकरायी, पति की मौत, पत्नी और पोते की हालत नाजुक||लातेहार: सिरफिरे युवक ने दो महिलाओं समेत पिता को कुल्हाड़ी से काट डाला, गिरफ्तार||झारखंड एकेडमिक काउंसिल कल जारी करेगा मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में बिना सूचना के अनुपस्थित रहे SBI सहायक पर FIR दर्ज||ED ने जमीन घोटाला मामले में आरोपियों के पास से बरामद किये 1 करोड़ 25 लाख रुपये||झारखंड में हीट वेब को लेकर इन जिलों में येलो अलर्ट जारी, पारा 43 डिग्री के पार||सतबरवा सड़क हादसे में मारे गये दोनों युवकों की हुई पहचान, यात्री बस की चपेट में आने से हुई थी मौत||झारखंड: रामनवमी जुलूस रोके जाने से लोगों में आक्रोश, आगजनी, पुलिस की गाड़ियों में तोड़फोड़, लाठीचार्ज||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, दो बाइकों की टक्कर में तीन युवकों की मौत, महिला समेत चार घायल, दो की हालत नाजुक
Tuesday, April 23, 2024
गारूलातेहार

माओवादियों का सहयोगी बातकर ग्रामीण की पिटाई, एसपी ने कहा-जांच के बाद होगी कार्रवाई

Garu Latehar News

गोपी कुमार सिंह/लातेहार

लातेहार : जिले के गारू थाना प्रभारी रंजीत कुमार यादव ने ग्रामीण अनिल कुमार सिंह (42) को नक्सलियों का मददगार बताकर उसकी पिटाई कर दी। इस मारपीट में अनिल सिंह के शरीर के पिछले हिस्से में गहरे निशान पड़ गए हैं। घटना बुधवार आधी रात की है। अनिल का इलाज सदर अस्पताल में चल रहा है। वह गारू थाना क्षेत्र के कुकु गांव का रहने वाला है।

डंडे से की पिटाई

घायल अनिल सिंह ने बताया कि बुधवार रात करीब एक बजे गारू थाना प्रभारी उसके घर आए और दरवाजा खुलवाकर थाने चलने को कहा। थाने पहुंचकर थाना प्रभारी श्री यादव ने कहा कि आप पार्टी वाले की मदद करते हो। जब उसने कहा कि वह ऐसा कुछ नहीं करता है तो थाना प्रभारी भड़क गए और डंडे से पीटने लगे।

गलती से उठा लायी थी पुलिस

उन्होंने बताया कि उनके शरीर के पिछले हिस्से में करीब तीन से चार सौ डंडे मारे गए हैं। जिससे कई निशान बन गए हैं। अनिल ने कहा कि थाना प्रभारी ने पिटाई के बाद कहा कि आपको गलती से थाने लाया गया। थाना प्रभारी ने इलाज का खर्चा भी देने को कहा था।

क्या कहते हैं थाना प्रभारी

थाना प्रभारी श्री यादव से पूछे जाने पर उन्होने कहा कि ऐसी कोई बात नहीं है। पूछताछ के लिए उसे थाना में लाया गया था और पूछताछ के बाद उसे छोड़ दिया गया था।

पुलिस अधीक्षक ने जांच कराने की कही बात

इस संबंध में पूछे जाने पर पुलिस अधीक्षक अंजनी अंजन ने कहा कि अगर ऐसा कुछ है तो इसकी जांच कर दोषी पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

पूर्व विधायक ने की निंदा

वहीं लातेहार विधानसभा के पूर्व विधायक प्रकाश राम ने घटना पर चिंता जताते हुए कहा कि पुलिस की कार्रवाई निंदनीय है।

इधर, झारखंड जनाधिकार महासभा ने मांग किया है कि थाना प्रभारी के विरुद्ध तुरंत कार्रवाई हो और अनिल सिंह को पर्याप्त मुआवज़ा मिले। महासभा ने अपनी मांगों को पुनः दुहराया है जिसमें (1) नक्सलियों को पकड़ने की आड़ में सुरक्षा बल लोगों को प्रताड़ित न करे और (2) पाँचवी अनुसूची क्षेत्र के किसी भी गांव में सर्च औपरेशन चलाने से पहले ग्राम सभा और पारम्परिक प्रधानों की अनुमति ली जाए।

Garu Latehar News


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *