Breaking :
||झारखंड प्रशासनिक सेवा के कई अधिकारियों की हुई ट्रांसफर-पोस्टिंग||झारखंड में फिर बढ़ी कोरोना की रफ्तार, साढ़े तीन सौ के करीब पंहुचा एक्टिव केस||पीएम मोदी के बाबा बैद्यनाथ मंदिर पहुंचने से दो घंटे पहले से बंद रहेगी श्रद्धालुओं की एंट्री||एनडीए की राष्ट्रपति उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू पहुंचीं सीएम हेमंत सोरेन के घर, बंद कमरे में आधे घंटे तक हुई बात||झारखंड: जैक ने शुरू की मैट्रिक व इंटर की सप्लीमेंट्री परीक्षा लेने की तैयारी||पारा शिक्षकों के लिए मूल्यांकन परीक्षा लेने की तैयारी शुरू, जानिये किस स्तर के पूछे जायेंगे प्रश्न||झारखंड: जैक ने शुरू की मैट्रिक व इंटर की सप्लीमेंट्री परीक्षा लेने की तैयारी||पारा शिक्षकों के लिए मूल्यांकन परीक्षा लेने की तैयारी शुरू, जानिये किस स्तर के पूछे जायेंगे प्रश्न||LATEHAR BREAKING: यात्री बस और मोटरसाइकिल की भीषण टक्कर में पिता-पुत्र की मौत, ससुराल से लौटने के दौरान हुआ हादसा||झारखंड के कई जिलों में चार दिनों तक भारी बारिश, गरज के साथ बिजली गिरने की संभावना, येलो अलर्ट जारी

आज रात को लगने वाला है साल का पहला सूर्य ग्रहण, जानें समय, सूतक काल व सबकुछ

'

साल 2022 का पहला सूर्यग्रहण 30 अप्रैल को लग रहा है। जबकि दूसरा सूर्यग्रहण 25 अक्टूबर को लगेगा। सूर्यग्रहण की दृश्यता के आधार पर ही सूतककाल का निर्धारित किया जाता है। अगर भारत में कोई ग्रहण नजर नहीं आता है तो उसका सूतककाल मान्य नहीं होता है। अगर भारत में ग्रहण नजर आता है तो सूतक काल मान्य होता है।

सूर्यग्रहण 2022 अप्रैल का समय-

साल का पहला सूर्यग्रहण 30 अप्रैल को आधी रात 12 बजकर 15 मिनट से शुरू होगा और सुबह 04 बजकर 07 मिनट तक रहेगा। यह आंशिक सूर्यग्रहण होगा।

इसे भी पढ़ें :- लातेहार में टाना भगतों का आंदोलन चौथे दिन भी जारी, रेलवे ट्रैक जाम करने की चेतावनी

साल का पहला सूर्यग्रहण कहां आएगा नजर-

साल का पहला सूर्यग्रहण दक्षिण अमेरिका के दक्षिणी पश्चिमी हिस्से, प्रशांत महासादर, अटलांटिक और अंटार्कटिका में नजर आएगा। भारत में यह सूर्यग्रहण नजर नहीं आएगा। जिसके कारण भारत में सूतक काल मान्य नहीं होगा।

साल का दूसरा सूर्यग्रहण कब लगेगा-

साल का दूसरा व अंतिम सूर्यग्रहण 25 अक्टूबर 2022 को लगेगा। 25 अक्टूबर को सूर्यग्रहण शाम 04 बजकर 29 मिनट से लेकर 05 बजकर 42 मिनट तक लगेगा। यह सूर्यग्रहण अफ्रीका महाद्वीप के उत्तर-पूर्वी भाग, एशिया के दक्षिण-पश्चिमी भाग और अटलांटिक में देखा जा सकेगा। यह सूर्यग्रहण भारत के कुछ हिस्सों में नजर आएगा, जिसके कारण देश में सूतक काल मान्य होगा।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें