Breaking :
||Jharkhand: प्रेमी ने पांच माह की गर्भवती प्रेमिका को गला दबाकर मार डाला||कोयला लदे हाइवा व ट्रक की भीषण टक्कर में दोनों चालकों की दर्दनाक मौत||रांची: असामाजिक तत्वों ने मेन रोड स्थित हनुमान मंदिर में की तोड़फोड़, प्रतिमा क्षतिग्रस्त||बालूमाथ: वज्रपात की चपेट में आने से पत्नी की मौत, पति समेत दो घायल||पातम-डाटम जलप्रपात में डूबे दोनों युवकों के शव बरामद, प्रशासनिक उदासीनता से ग्रामीणों में आक्रोश||तीन माह की गर्भवती महिला से छह अपराधियों ने पति के सामने किया सामूहिक दुष्कर्म, सभी आरोपी गिरफ्तार||लातेहार: माइंस खोलने को लेकर भूमि पूजन करने मंगरा गांव पहुंची डीवीसी कंपनी का विरोध, दो पक्षों में जमकर मारपीट, आधा दर्जन लोग घायल||लातेहार: नाबालिग से दुष्कर्म कर बनाया वीडियो, वायरल करने की धमकी दे करता रहा दुष्कर्म, ग्रामीणों ने पिटायी कर पुलिस को सौंपा||BREAKING: बालूमाथ में मधुमक्खियों ने फिर किया हमला, एक आदिवासी महिला की मौत, छह घायल||लातेहार: पातम-डाटम जल प्रपात घूमने आये दो युवकों की नहाने के दौरान नदी में डूबने से मौत

एएनएम ने गर्भपात कराने के नाम पर मांगे 5 हजार रुपये, नहीं देने पर पेशेंट को दो घंटे अस्पताल में ही रोका

'

शशि भूषण गुप्ता/बालूमाथ

लातेहार : बालूमाथ थाना क्षेत्र के सेरेगड़ा निवासी नरेश शर्मा ने लातेहार उपायुक्त अबु इमरान को आवेदन देकर बालूमाथ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में कार्यरत एएनएम रीना कुमारी पर गर्भपात कराने के एवज में 5 हजार रुपये मांगने का आरोप लगाया है।

आवेदन में कहां है कि चिकित्सकों के सलाह पर मैं अपनी बेटी का गर्भपात कराने बालूमाथ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचा। जहां ड्यूटी पर तैनात एएनएम रीना कुमारी प्रसव रूम के अंदर ले गई और अधूरा गर्भपात करने के बाद बाहर आकर कर बोली कि 5000 हजार रुपये दोगे तो पूरा करूंगी अन्यथा छोड़ दूँगी।

आनन-फानन में नरेश शर्मा ने 2 हजार रुपये एएनएम को दिया एवं 1 हजार रुपये और देने की आरजू विनती की।

गर्भपात कराने के बाद एएनएम ने मानवता को शर्मसार करते हुए 1 हजार रुपये की और मांग की। पैसा नहीं देने के एवज में पेशेंट को 2 घंटे अस्पताल में ही रोके रखा।

नरेश शर्मा इसकी शिकायत उपायुक्त को लिखित रूप से कर दी उपायुक्त के निर्देश पर जिला परिवहन पदाधिकारी संतोष कुमार सिंह ने संज्ञान लेते हुए बालूमाथ प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ अशोक ओड़िया को जांच कर अभिलंब जांच प्रतिवेदन सौंपने को कहा है।

इस संबंध में एएनएम रीना कुमारी ने कहा कि मुझे पेसेंट स्वेच्छा से 500 रुपये दिया था। मैंने पैसे की कोई मांग नहीं की।

वही प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ अशोक ओड़िया ने कहा कि जब मैं जांच करने पहुंचा तो मरीज अस्पताल से जा चुका था।

वहीं जिला परिवहन पदाधिकारी संतोष कुमार सिंह ने कहा कि जांच रिपोर्ट आने के बाद दोषियों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।


Leave a Reply

Your email address will not be published.