Breaking :
||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता का इंडी गठबंधन पर हमला, कहा- कोड वर्ड के जरिये बेच दिया झारखंड को||टेंडर कमीशन देने में पांकी के ठेकेदार का भी नाम : शशिभूषण मेहता||टेंडर घोटाले की जांच में पूर्व मंत्री आलमगीर आलम नहीं कर रहे सहयोग : ED||पांचवें चरण में 63.21 फीसदी वोटिंग, पुरुषों से ज्यादा रही महिलाओं की भागीदारी||गढ़वा: शादी समारोह में शामिल होने जा रही मां-बेटी की सड़क हादसे में मौत, बेटा और बेटी की हालत नाजुक||झारखंड: स्कूलों में शत प्रतिशत नामांकन को लेकर राज्य शिक्षा परियोजना गंभीर, लापरवाही बरतने पर होगी कार्रवाई||टेंडर कमीशन घोटाला मामला: ED ने अब IAS मनीष रंजन को पूछताछ के लिए बुलाया||मतदान केंद्र में फोटो या वीडियो लेना अपराध, की जा रही है कार्रवाई : मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी||लातेहार: बालूमाथ में बाइक दुर्घटना में एक युवक की मौत, दूसरा गंभीर, रिम्स रेफर||गढवा: डोभा में नहाने के दौरान डूबने से JJM नेता के पोते समेत दो किशोरों की मौत
Thursday, May 23, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामू प्रमंडललातेहार

लातेहार: नाबालिग लड़की से सामूहिक दुष्कर्म के तीन आरोपियों को आजीवन कारावास व जुर्माना

लातेहार : पोक्सो की विशेष अदालत जिला एवं सत्र न्यायाधीश द्वितीय अमित कुमार की अदालत ने किशोरी से सामूहिक दुष्कर्म के तीन आरोपियों को आजीवन कारावास और 25-25 हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनायी है। मामले की सुनवाई के दौरान कोर्ट ने जेल में बंद तीनों आरोपियों को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये पेश किया और फैसला सुनाया गया।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

पॉक्सो कोर्ट के विशेष लोक अभियोजक अशोक कुमार दास ने बताया कि चंदवा थाना कांड संख्या 110/20 के तीन आरोपियों बाल किशोर उरांव, मोहन देव उरांव और मनीष महतो ने चंदवा की 15 वर्षीया पीड़िता को घर जाने से रोकने पर उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया था। जब वह कुछ सामान खरीदने के लिए दुकान पर जा रही थी तो तीनों आरोपियों ने उसे रास्ते से पकड़ लिया और बारी-बारी से उसके साथ दुष्कर्म किया। इस मामले में आईपीसी की धारा 376 डी और 4/6/8 पॉक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया था। अभियोजन पक्ष की ओर से कुल 9 गवाह कोर्ट में पेश किये गये। मामले की सुनवाई के बाद अदालत ने आरोपियों को भारतीय दंड संहिता की धारा 376 डी और 4/6/8 पॉक्सो एक्ट के तहत दोषी पाया और उन्हें आजीवन कारावास और 25-25 हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनायी।

मालूम हो कि तीनों आरोपी साल 2020 से जेल में थे। POCSO कोर्ट के विशेष लोक अभियोजक दास ने कहा कि इस फैसले से पीड़ित पक्ष को काफी राहत मिली है। उन्होंने इस मामले में स्पीडी ट्रायल चलाकर अपराधियों को सजा दिलायी है।