Breaking :
||सीएम हेमंत सोरेन की नहीं होगी गिरफ्तारी, ईडी के पास कोई पुख्ता सबूत नहीं||झारखंड से कोरोना की विदाई, सभी जिले कोरोना मुक्त घोषित||झारखंड: प्रमाण पत्र सत्यापन नहीं कराने वाले सहायक अध्यापक होंगे कार्यमुक्त||झारखंड में Suo-Moto Online Mutation की ऐतिहासिक शुरुआत, अब जमीन रजिस्ट्री के बाद म्यूटेशन के लिए नहीं देना पड़ेगा आवेदन||झारखंड प्रशासनिक सेवा के 14 अधिकारियों को मिली अपर सचिव के पद पर पदोन्नति||लातेहार: कब्र से निकाले गये शव की गुत्थी महुआडांड़ पुलिस ने सुलझाया, सास, ससुर व साले ने पीट-पीटकर की थी हत्या||लातेहार: आदिवासी मुख्यमंत्री के कार्यकाल में आदिवासी की मौत के बाद नहीं मिली एंबुलेंस, ठेले पर ले गया शव||पलामू में भाकपा माओवादी के सब जोनल कमांडर नारायण यादव गिरफ्तार||चतरा में भाकपा माओवादी के एरिया कमांडर ने किया पुलिस के सामने सरेंडर||लातेहार: सात दिन पूर्व दफनाये गये शव को महुआडांड़ पुलिस ने कब्र से निकलवाया, हत्या की आशंका

लातेहार: बालूमाथ BDO पर पंचायत समिति सदस्यों ने लगाये कई गंभीर आरोप, बताया तानाशाह, उपायुक्त से कार्रवाई की मांग

बीरेंद्र प्रसाद/लातेहार

लोकतांत्रिक तरीके से चुने गये जनप्रतिनिधियों के मान सम्मान को पहुंचाया जाता है ठेस

लातेहार : बालूमाथ प्रखंड प्रमुख ममता देवी व उप मुखिया कामेश्वर राम के नेतृत्व में प्रखंड के 18 पंचायत समिति सदस्यों ने उपायुक्त के जनता दरबार में पहुंचकर ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में जनप्रतिनिधियों ने बालूमाथ बीडीओ राजश्री ललिता बाखला पर कई गंभीर आरोप लगाये। मौके पर उपायुक्त से कहा गया कि वह लोकतांत्रिक तरीके से चुने गये जनप्रतिनिधियों को देखना भी पसंद नहीं करते हैं।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

बीडीओ करती हैं मनमानी

पंचायत समिति सदस्यों ने बीडीओ पर गंभीर आरोप लगाते हुए एक स्वर में कहा कि उनके द्वारा तानाशाही की नीति अपनायी जा रही है। प्रखंड के किसी भी कार्य में प्रखंड प्रमुख, उप प्रमुख व पंचायत समिति सदस्यों को पूछा तक नहीं जाता है। बीडीओ अपनी मनमानी करती हैं।

विकास योजनाओं में प्रखंड प्रमुख की नहीं ली जाती है स्वीकृति

प्रखंड उप प्रमुख कामेश्वर राम ने बताया कि सरकार जिस उदेश्य से पंचायत चुनाव करायी है वह उदेश्य बालूमाथ प्रखंड में पूरा नहीं हो रहा है। प्रखंड में चल रही विकास योजनाओं में प्रखंड प्रमुख, उपप्रमुख व पंचायत समिति सदस्यों से पूछा तक नहीं जाता है। बीडीओ अपने पंचायत सचिव के माध्यम से योजनाओं को लाते हैं और उनकी इच्छा के अनुसार उन्हें ऑनलाइन कराकर संचालित करती हैं। जबकि सिस्टम कहता है कि प्रखंड में चल रही किसी भी विकास योजना में प्रखंड प्रमुख की स्वीकृति जरूरी है, लेकिन बालूमाथ में ऐसा नहीं होता। यहां बीडीओ कि मनमानी चलती हैं।

बीडीओ पर नहीं हुई कार्रवाई तो धरना-प्रदर्शन की चेतावनी

प्रखंड उप प्रमुख ने आगे बताया कि न तो स्वतंत्रता दिवस और न ही बिरसा मुंडा की जयंती पर बीडीओ की ओर से निमंत्रण दिया गया। तो इस तरह बीडीओ द्वारा जनप्रतिनिधि के सम्मान को ठेस पहुंचाई जा रही है, यह ठीक नहीं है। आज उपायुक्त, अनुमंडल पदाधिकारी व एसी को ज्ञापन सौंप कर उचित कार्रवाई की मांग की है। अगर उचित कार्रवाई नहीं की गयी तो हम अनिश्चितकाल के लिए धरना-प्रदर्शन करने को बाध्य होंगे।

ये थे मौजूद

मौके पर सुनीता देवी, सरिता देवी, रीना देवी, पिंकू नायक, ईश्वरी राम, रजिया सुल्ताना, राजकुमारी देवी, रुक्मणी देवी, बीरबल उरांव, खतीजा खातून, भुनेश्वर राम सहित सभी 18 पंचायत समिति सदस्य उपस्थित थे।