Breaking :
||झारखंड एकेडमिक काउंसिल कल जारी करेगा मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में बिना सूचना के अनुपस्थित रहे SBI सहायक पर FIR दर्ज||ED ने जमीन घोटाला मामले में आरोपियों के पास से बरामद किये 1 करोड़ 25 लाख रुपये||झारखंड में हीट वेब को लेकर इन जिलों में येलो अलर्ट जारी, पारा 43 डिग्री के पार||सतबरवा सड़क हादसे में मारे गये दोनों युवकों की हुई पहचान, यात्री बस की चपेट में आने से हुई थी मौत||झारखंड: रामनवमी जुलूस रोके जाने से लोगों में आक्रोश, आगजनी, पुलिस की गाड़ियों में तोड़फोड़, लाठीचार्ज||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, दो बाइकों की टक्कर में तीन युवकों की मौत, महिला समेत चार घायल, दो की हालत नाजुक||बड़ी खबर: 25 लाख के इनामी समेत 29 नक्सली ढेर, तीन जवान घायल||पलामू: महुआ चुनकर घर जा रही नाबालिग से भाजपा मंडल अध्यक्ष ने किया दुष्कर्म, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस||झामुमो केंद्रीय समिति सदस्य नज़रुल इस्लाम ने मोदी को जमीन में 400 फीट नीचे गाड़ने की दी धमकी, भाजपा प्रवक्ता ने कहा- इंडी गठबंधन के नेता पीएम मोदी के खिलाफ बड़ी घटना की रच रहे साजिश
Monday, April 22, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामू प्रमंडललातेहार

लातेहार: बूढ़ा पहाड़ इलाके में नक्सलियों द्वारा छिपाये गये अत्याधुनिक हथियार व अन्य सामान बरामद

लातेहार : जिला पुलिस अधीक्षक अंजनी अंजन को मिली गुप्त सूचना पर सुरक्षाबलों को एक बार फिर नक्सलियों के खिलाफ सफलता मिली है. सुरक्षाबलों ने बुढ़ा पहाड़ इलाके में नक्सलियों द्वारा छिपाये गये चार अत्याधुनिक हथियार और अन्य सामान बरामद किया है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

एसपी अंजनी अंजन को गुप्त सूचना मिली थी कि बुढ़ा पहाड़ के जोकपानी इलाके में नक्सलियों ने हथियार और गोला-बारूद छिपा रखा है। इस सूचना के बाद जिला पुलिस, कोबरा 209 बटालियन और सीआरपीएफ के जवानों ने संयुक्त रूप से छापेमारी अभियान चलाया। इस दौरान सुरक्षाबलों ने एक मशीनगन, दो एसएलआर राइफल, एक इंसास राइफल समेत 470 गोलियां बरामद कीं।

नक्सलियों का सबसे सुरक्षित गढ़ था बूढ़ा पहाड़

साल 2022 की सबसे बड़ी सफलता झारखंड पुलिस के द्वारा चलाया गया ऑपरेशन ऑक्टोपस और डबल बुल था। बूढ़ा पहाड़ कॉर्पोरेशन ऑक्टोपस के जरिए क्लीन करवाया गया जबकि बुलबुल जंगल को ऑपरेशन डबल बुल के जरिए। झारखंड सहित तीन राज्यों में माओवादियों के मुख्यालय के तौर पर बूढ़ापहाड़ का इस्तेमाल पिछले तीन दशक से हो रहा था। 1990 से ही घोर नक्सल प्रभाव वाला इलाका रहा बूढ़ापहाड़ झारखंड, बिहार और छत्तीसगढ़ के माओवादियों के लिए बड़ा आश्रय स्थल था।

केंद्रीय गृह मंत्रालय के टास्क पर काम करते हुए झारखंड पुलिस ने 32 साल से माओवादी गतिविधियों के केंद्र रहे बूढ़ापहाड़ को नक्सल मुक्त करा लिया है। बूढ़ापहाड़ को नक्सलमुक्त कराने के लिए साल 2022 में पुलिस और सीआरपीएफ ने ऑपरेशन ऑक्टोपस चलाया था। अब बूढ़ापहाड़ पर सात कैंप बना दिए गए हैं। नदी नालों पर पुल बांध दिए गए हैं। बूढ़ा पहाड़ फिलहाल नक्सलियों से मुक्त है जवानों की यह कोशिश है कि अब दोबारा इस पहाड़ पर नक्सलियों को नहीं आने दिया जाए।

लातेहार बूढ़ा पहाड़ नक्सली