Breaking :
||झारखंड में भीषण गर्मी से मिलेगी राहत, 20 जून तक मानसून करेगा प्रवेश||पलामू: बालिका गृह में दुष्कर्म पीड़िता की बहन की मौत, मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में हुआ पोस्टमार्टम||सतबरवा प्रखंड के रैयतों ने सांसद से की मुलाकात, उचित मुआवजा दिलाने की मांग||पलामू में तीन अलग-अलग सड़क हादसों में तीन की मौत, नेतरहाट घूमने जा रहा एक पर्यटक भी शामिल||केंद्रीय मंत्री शिवराज व असम के मुख्यमंत्री हिमंता झारखंड विधान सभा चुनाव में भाजपा का करेंगे बेड़ापार||झारखंड में पांच नक्सली ढेर, एक महिला नक्सली समेत दो गिरफ्तार, हथियार बरामद||अब स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग स्कूली बच्चों को नशीले पदार्थो के सेवन से होने वाले दुष्प्रभावों के बारे में करेगा जागरूक||लातेहार: बालूमाथ में अनियंत्रित बाइक दुर्घटनाग्रस्त, दो युवक घायल, सांसद ने पहुंचाया अस्पताल, दोनों रिम्स रेफर||15 ऐसे महत्वपूर्ण कानून और कानूनी अधिकार जो हर भारतीय को जरूर जानने चाहिए||लातेहार में तेज रफ्तार बोलेरो ने घर में सो रहे पांच लोगों को रौंदा, एक की मौत, चार रिम्स रेफर
Tuesday, June 18, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामू प्रमंडललातेहार

लातेहार में दूसरे दिन भी थोक व फुटकर खाद्य पदार्थ की दुकानें बंद, कृषि शुल्क में वृद्धि का विरोध, करोड़ों का नुक्सान

रुपेश कुमार अग्रवाल/लातेहार

व्यापारियों का प्रदर्शन

लातेहार : कृषि शुल्क में बढ़ोतरी के खिलाफ थोक और फुटकर खाद्यान्न व्यापारी बुधवार से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं। इसी क्रम में दूसरे दिन भी लातेहार की सभी दुकानें बंद हैं। आवक और जावक दोनों ठप पद गये हैं।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

कोलकाता, छत्तीसगढ़, बिहार, उड़ीसा, यूपी समेत अन्य कई राज्यों से रोजाना सैकड़ों ट्रक माल यहां आता है, जिससे करोड़ों रुपए का कारोबार होता है। अनुमान है कि हड़ताल के पहले दिन पूरे जिले में पांच करोड़ का नुकसान हुआ है। आज दूसरे दिन भी कारोबार में घाटा इतना ही रहने का अनुमान है। व्यापारियों की हड़ताल से खाद्यान्न, सब्जी और फलों का थोक और फुटकर कारोबार प्रभावित हुआ है।

लातेहार चैंबर ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष सुशील अग्रवाल ने मीडिया से कहा कि कृषि शुल्क में वृद्धि से आम लोगों पर महंगाई का बोझ बढ़ेगा। सामानों की कीमतें बढ़ेंगी और सरकार को जितना राजस्व मिलने की उम्मीद है उससे कहीं ज्यादा नुकसान होगा। उन्होंने कहा कि इस हड़ताल में ऐसे सभी लोग शामिल हैं, जो खाद्यान्न के थोक व्यापारी हैं। उन्होंने कहा कि हड़ताल के दूसरे दिन भी खाद्यान्न की आवक और जावक पूरी तरह से ठप है।

श्री अग्रवाल ने कहा कि सरकार ने जिस तरह से कृषि शुल्क में वृद्धि की है उसका सभी विरोध कर रहे हैं। नतीजतन बाजार समिति की सभी दुकानें बंद हैं। अध्यक्ष सुशील अग्रवाल ने कहा कि अगर यही स्थिति रही तो प्रदेश में भयावह स्थिति पैदा हो जायेगी। उन्होंने दावा किया कि हड़ताल के कारण पूरे लातेहार जिले में प्रतिदिन पांच करोड़ रुपये का कारोबार प्रभावित हो सकता है।

इससे पूर्व लातेहार चेंबर के सदस्यों ने स्थानीय विधायक बैद्यनाथ राम से मुलाकात कर ज्ञापन सौंपा और सरकार से बढ़ी हुई शुल्क वापस लेने के लिए सरकार पर दबाव बनाने का आग्रह किया। साथ ही थाना चौक से समाहरणालय परिसर तक मार्च निकाल कर विरोध भी जताया। इस दौरान व्यवसायी हेमंत सरकार, हाय हाय, बढ़ी हुई कृषि शुल्क वापस लो के नारे लगा रहे थे।

इस अवसर पर मुख्य रूप से लातेहार चेंबर ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष सुशील अग्रवाल, विनोद महलका, निर्दोष गुप्ता, विष्णु प्रसाद, अरविंद कुमार, मिंकू, उज्जवल साहू, राकेश कुमार, राजबलम प्रसाद, रंजन अग्रवाल, दिलीप अग्रवाल, निर्मल अग्रवाल, अनुप शौण्डिक, जवाहर प्रसाद, ध्रुव प्रसाद, रमेश कुमार गर्ग सहित सैकड़ों की संख्या में व्यवसायी शामिल रहे।