Breaking :
||झारखंड में गर्मी से मिलेगी राहत, गरज के साथ बारिश के आसार, येलो अलर्ट जारी||चतरा, हजारीबाग और कोडरमा संसदीय क्षेत्र में मतदान कल, 58,34,618 मतदाता करेंगे 54 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला||चतरा लोकसभा: भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधी टक्कर, फैसला जनता के हाथ||भाजपा की मोटरसाइकिल रैली पर पथराव, कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट, कई घायल||झारखंड की तीन लोकसभा सीटों पर चुनाव प्रचार थमा, 20 मई को वोटिंग||पिता के हत्यारे बेटे की निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त बंदूक बरामद समेत पलामू की तीन ख़बरें||चतरा लोकसभा क्षेत्र के नक्सल प्रभावित इलाके में नौ बूथों का स्थान बदला, जानिये||झारखंड हाई कोर्ट में 20 मई से ग्रीष्मकालीन अवकाश||पलामू: हार्डकोर इनामी माओवादी नीतेश के दस्ते का सक्रिय सदस्य गिरफ्तार||लातेहार: 65 हेली ड्रॉपिंग बूथ के लिए शुभकामनायें लेकर मतदान कर्मी रवाना
Monday, May 20, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामूपलामू प्रमंडल

प्रसव के दौरान जच्चा-बच्चा की मौत के बाद आक्रोशित परिजनों ने अस्पताल में किया हंगामा, डॉक्टर पर लापरवाही का आरोप

पलामू : मेदिनीनगर के एमएमसीएच के नवनिर्मित मातृ एवं शिशु वार्ड में प्रसव के दौरान जच्चा-बच्चा की मौत के बाद शुक्रवार की रात आक्रोशित परिजनों ने जमकर हंगामा किया। पुलिस के हस्तक्षेप के बाद मामला शांत हुआ और जांच की घोषणा की गयी है। हालांकि परिजनों ने डॉक्टर पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए प्राथमिकी दर्ज कराने की जानकारी दी है।

महिला की पहचान कुंड मोहल्ला पनेरी गली निवासी पिंकी देवी पति राहुल गुप्ता के रूप में हुई है। महिला की एक वर्ष पहले शादी हुई थी। मामले में जिले के सिविल सर्जन डॉ. अनिल सिंह ने कहा कि जो भी आरोप लगाये गये हैं उसकी जांच होनी चाहिए और अगर डाक्टर और कर्मी दोषी पाये जाते हैं तो उन पर कार्रवाई होनी चाहिए। पैसे लेकर नॉर्मल डिलीवरी कराने के आरोप की भी जांच करायी जायेगी। सुपरिटेंडेंट इस मामले में पहल करेंगे।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

इधर डॉक्टर आरके रंजन ने कहा कि प्रसव के क्रम में किसी तरह की लापरवाही नहीं बरती गयी है। डिलीवरी के दौरान कभी-कभी 100 केस में से 1-2 मामलों में मौत हो जाने की संभावना बनी रहती है। पेशेंट मौत से 5 मिनट पहले तक ठीक थी। उसे बचाने का हर संभव प्रयास किया गया। जो भी आरोप लगाये गये हैं, उसकी जांच होनी चाहिए। पोस्टमार्टम रिपोर्ट से मौत का कारण स्पष्ट हो पायेगा।

मामले में झारखंड मुक्ति मोर्चा के वरिष्ठ नेता मनोज गुप्ता ने कहा कि महिला सुबह 9 बजे एडमिट हुई थी। डिलीवरी नहीं हुई थी। इसी क्रम में जच्चा बच्चा दोनों की मौत हो गयी। डिलीवरी कराने में लापरवाही बरती गयी। अंतिम समय तक स्पष्ट नहीं किया गया कि डिलीवरी नार्मल होगी या फिर सिजेरियन। इसी कारण से परिजन असमंजस में पड़े रह गये और उनके सामने ही यह घटना हो गयी। मामले में लापरवाही के खिलाफ डॉक्टर और कर्मियों पर एफआईआर दर्ज करायी जायेगी।

Palamu Latest News Today