Breaking :
||लातेहार जिले के विकास के लिए किसी के पास कोई रोडमैप नहीं, अधिकारी भी नहीं रहना चाहते यहां: सुदेश महतो||झारखंड में अधिकारियों के तबादले में चुनाव आयोग के निर्देशों का नहीं हुआ पालन, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने लिखा पत्र||पलामू: बाइक सवार अपराधियों ने व्यवसायी को मारी गोली, पत्नी ने गोतिया परिवार पर लगाया आरोप||पलामू: ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार इंटर के परीक्षार्थी की मौत||पलामू DAV के बच्चों की बस बिहार में पलटी, दर्जनों छात्र घायल||पलामू: पिछले 13 माह में सड़क दुर्घटना में 225 लोगों की मौत पर उपायुक्त ने जतायी चिंता||सदन की कार्यवाही सोमवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित||JSSC परीक्षा में गड़बड़ी मामले की CBI जांच कराने की मांग को लेकर विधानसभा गेट पर भाजपा विधायकों का प्रदर्शन||लातेहार: 10 लाख के इनामी JJMP जोनल कमांडर मनोहर और एरिया कमांडर दीपक ने किया सरेंडर||युवक ने थाने की हाजत में लगायी फां*सी, परिजनों ने लगाया हत्या का आरोप
Sunday, February 25, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

नक्सलियों के 15 लाख रुपये नॉन बैंकिंग कंपनियों में जमा कराने के आरोपी को हाईकोर्ट से मिली जमानत, बालूमाथ थाने में दर्ज हुआ था मामला

रांची : 2016 में नोटबंदी के दौरान सहारा इंडिया और अन्य गैर-बैंकिंग कंपनियों में नक्सलियों के 15 लाख रुपये जमा कराने में मदद करने के आरोपी संतोष उरांव को मंगलवार को झारखंड हाई कोर्ट से जमानत मिल गयी। न्यायमूर्ति एस चन्द्रशेखर की अध्यक्षता वाली खंडपीठ ने पांच साल जेल में रहने की अवधि को ध्यान में रखते हुए संतोष उरांव को जमानत दे दी।

मामले को लेकर बालूमाथ थाना में संतोष उरांव समेत पांच लोगों के खिलाफ कांड संख्या 161/2016 दर्ज किया गया था। बाद में साल 2018 में एनआईए ने इस केस को अपने हाथ में ले लिया और केस नंबर 1/2018 दर्ज किया था। इस मामले की सुनवाई रांची स्थित एनआईए की विशेष अदालत में चल रही है। बताया जाता है कि संतोष उरांव सहारा इंडिया में एजेंट के तौर पर काम करता था। आरोप है कि उसने नक्सलियों की टेरर फंडिंग का पैसा सहारा इंडिया, बालूमाथ और मेसर्स पेट्रोन मिनरल्स एंड मेटल लिमिटेड जैसी गैर-बैंकिंग कंपनियों में निवेश किया। पुलिस ने उसे 21 मार्च 2018 को गिरफ्तार किया था, तब से वह जेल में बंद था।

Balumath Latehar Latest News