Breaking :
||झारखंड में भीषण गर्मी से मिलेगी राहत, 20 जून तक मानसून करेगा प्रवेश||पलामू: बालिका गृह में दुष्कर्म पीड़िता की बहन की मौत, मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में हुआ पोस्टमार्टम||सतबरवा प्रखंड के रैयतों ने सांसद से की मुलाकात, उचित मुआवजा दिलाने की मांग||पलामू में तीन अलग-अलग सड़क हादसों में तीन की मौत, नेतरहाट घूमने जा रहा एक पर्यटक भी शामिल||केंद्रीय मंत्री शिवराज व असम के मुख्यमंत्री हिमंता झारखंड विधान सभा चुनाव में भाजपा का करेंगे बेड़ापार||झारखंड में पांच नक्सली ढेर, एक महिला नक्सली समेत दो गिरफ्तार, हथियार बरामद||अब स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग स्कूली बच्चों को नशीले पदार्थो के सेवन से होने वाले दुष्प्रभावों के बारे में करेगा जागरूक||लातेहार: बालूमाथ में अनियंत्रित बाइक दुर्घटनाग्रस्त, दो युवक घायल, सांसद ने पहुंचाया अस्पताल, दोनों रिम्स रेफर||15 ऐसे महत्वपूर्ण कानून और कानूनी अधिकार जो हर भारतीय को जरूर जानने चाहिए||लातेहार में तेज रफ्तार बोलेरो ने घर में सो रहे पांच लोगों को रौंदा, एक की मौत, चार रिम्स रेफर
Tuesday, June 18, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामू प्रमंडललातेहार

लातेहार: प्रदर्शन से पहले ही पुलिस ने किया आजसू नेताओं को गिरफ्तार, आक्रोशित कार्यकर्ताओं ने किया मुख्यमंत्री का पुतला दहन

लातेहार : मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की जोहार यात्रा के दौरान लातेहार में दो कॉलेजों के शिलान्यास के 10 महीने बाद भी पढ़ाई शुरू नहीं होने के विरोध में आजसू पार्टी बुधवार को मुख्यमंत्री के कार्यक्रम का बहिष्कार करते हुए प्रदर्शन करने वाली थी।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

इसकी जानकारी मिलते ही आजसू जिला अध्यक्ष अमित पांडे, केंद्रीय सदस्य राकेश सिंह और जिला उपाध्यक्ष विजेंद्र दास को मंगलवार की रात ही गिरफ्तार कर लिया गया। गिरफ्तारी से नाराज आजसू कार्यकर्ताओं ने बुधवार को थाना गेट के सामने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन का पुतला फूंका।

आजसू जिला अध्यक्ष अमित कुमार पांडे ने कहा कि आजसू पार्टी आंदोलन से जन्मी पार्टी है। वह लाठी, गोली या जेल से नहीं डरती। उन्होंने कहा कि आंदोलन को जितना दबाया जायेगा। वह उतना ही उग्र हो जायेगा। उन्होंने कहा कि आजसू पार्टी ने डिग्री कॉलेज का ताला खुलवाने के लिए आंदोलन शुरू किया है, वह आंदोलन जारी रहेगा। उन्होंने आगे कहा कि गठबंधन सरकार जोर-शोर से दावा करती है कि बोलने की आजादी है, लेकिन जब आवाज उठाती है तो उसे दबा दिया जाता है। उन्होंने कहा कि आजाद भारत में सभी को अपनी आवाज उठाने और विरोध करने का अधिकार है, लेकिन आवाज उठाने के प्रति सरकार के इशारे पर जिला प्रशासन ने जिस तरह का रवैया अपनाया है। वह ठीक नहीं है।

मौके पर जिला प्रवक्ता रितेश पांडेय, प्रखंड अध्यक्ष अमर उरांव समेत कई कार्यकर्ता मौजूद थे।