Breaking :
||झारखंड एकेडमिक काउंसिल कल जारी करेगा मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में बिना सूचना के अनुपस्थित रहे SBI सहायक पर FIR दर्ज||ED ने जमीन घोटाला मामले में आरोपियों के पास से बरामद किये 1 करोड़ 25 लाख रुपये||झारखंड में हीट वेब को लेकर इन जिलों में येलो अलर्ट जारी, पारा 43 डिग्री के पार||सतबरवा सड़क हादसे में मारे गये दोनों युवकों की हुई पहचान, यात्री बस की चपेट में आने से हुई थी मौत||झारखंड: रामनवमी जुलूस रोके जाने से लोगों में आक्रोश, आगजनी, पुलिस की गाड़ियों में तोड़फोड़, लाठीचार्ज||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, दो बाइकों की टक्कर में तीन युवकों की मौत, महिला समेत चार घायल, दो की हालत नाजुक||बड़ी खबर: 25 लाख के इनामी समेत 29 नक्सली ढेर, तीन जवान घायल||पलामू: महुआ चुनकर घर जा रही नाबालिग से भाजपा मंडल अध्यक्ष ने किया दुष्कर्म, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस||झामुमो केंद्रीय समिति सदस्य नज़रुल इस्लाम ने मोदी को जमीन में 400 फीट नीचे गाड़ने की दी धमकी, भाजपा प्रवक्ता ने कहा- इंडी गठबंधन के नेता पीएम मोदी के खिलाफ बड़ी घटना की रच रहे साजिश
Sunday, April 21, 2024
गारूलातेहार

लातेहार: 8 महीने से अंधेरे में जीवन यापन करने को विवश हैं दर्जनों परिवार, विभाग के प्रति आक्रोश

गोपी कुमार सिंह/गारू

लातेहार : ज़िले के गारू प्रखंड अंतर्गत रुद पंचायत के महुआडाबार गांव में पिछले 8 माह से बिजली सेवा बाधित है। जिससे गांव में रहने वाले दर्जनों घरों के ग्रामीणों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इधर, संबंधित विभाग ग्रामीणों की इस समस्या को लेकर कोई गंभीरता नहीं दिखा रहा है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

इस संबंध में ग्रामीणों ने बताया कि पंचायत चुनाव के कुछ दिनों बाद से गांव में लगा बिजली ट्रांसफार्मर खराब है। लेकिन इसकी सुध लेने वाला कोई नहीं है। दशहरा पर्व के अवसर पर भी बिजली नहीं मिलने से ग्रामीणों में विभाग के खिलाफ काफी आक्रोश है।

ग्रामीणों ने आगे बताया कि इस समस्या से ग्रामीणों ने कई बार बिजली कर्मियों को अवगत करा दिया है। इसके बावजूद विभागीय कर्मचारी इस समस्या के समाधान के लिए कोई पहल नहीं कर रहे हैं। ग्रामीणों का कहना है कि पहले भी कई बार फाल्ट आ चुका है। जिसे बाद में इलेक्ट्रीशियन द्वारा ठीक किया जाता है। लेकिन कुछ दिन ठीक होने के बाद फिर से खराबी आ जाती है। जिससे ग्रामीण अंधेरे में जीने को मजबूर हैं।

गांव में बिजली नहीं होने से पेयजल, खेतों में पटवान, बच्चों की पढ़ाई समेत कई अन्य समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

राज्य सरकार सड़क, राशन, पेंशन, रोजगार, शुद्ध पेयजल, बिजली समेत अन्य योजनाओं से गांव के अंतिम पायदान पर बैठे लोगों को लाभान्वित करने का दावा करती है। लेकिन इन सभी योजनाओं का धरातल पर कोई खास असर होता नहीं दिख रहा है। इसका ताजा उदाहरण रुद पंचायत का महुआडाबार गांव है। जहां गांव के ग्रामीण पिछले 8 महीने से बिजली नहीं होने के कारण ढिबरी युग में जीने को मजबूर हैं। ग्रामीणों ने संबंधित विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों से गांव में खराब ट्रांसफार्मर को ठीक कर विद्युत सेवा बहाल करने की मांग की है।