Breaking :
||पलामू में जन वितरण प्रणाली दुकानदार की गोली मारकर हत्या, पुलिस कर रही जांच||लातेहार: युवक हत्याकांड का खुलासा, भाभी ने ही करा दी देवर की हत्या, दो आरोपी गिरफ्तार||थर्ड रेल लाइन निर्माण कार्य में लगी कंपनी के साइट पर नक्सलियों का उत्पात, फायरिंग कर जेसीबी में लगायी आग||दुर्गा पूजा पर आयोजित कार्यक्रम देख लौट रही नाबालिग से सामूहिक दुष्कर्म||हजारीबाग: तीर्थयात्रियों से भरे बस और ट्रक की सीधी टक्कर में 4 की मौत, 30 घायल||लातेहार: ढाबा चलाने की आड़ में अफीम व डोडा पाउडर बेचने के आरोप में ढाबा संचालक गिरफ्तार||रांची: गैस रिफिलिंग की दुकान में रखे सिलेंडर में हुए विस्फोट से चार दुकानें जलकर राख||चतरा में पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़, भारी मात्रा में सामान और हथियार बरामद||लातेहार: दशहरा व दुर्गा पूजा को लेकर मिठाई व फास्ट फूड दुकानों की हुई जांच, पांच दुकानों पर कार्रवाई, लगा जुर्माना||पलामू सिविल सर्जन 50 हजार रुपये की रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार, बिल भुगतान के एवज में मांगी थी रिश्वत

स्वास्थ्य निदेशालय का लिपिक रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार, गारू रेफरल अस्पताल के स्वास्थ्य कर्मी के मामले में ले रहा था रिश्वत

'

Health directorate clerk bribe

रांची : स्वास्थ्य निदेशालय के बड़ा बाबू कृष्णकांत बारला को राँची एसीबी की टीम ने बुधवार को रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार किया है। एसीबी की टीम ने कृष्णकांत बारला को 10 हजार रुपए रिश्वत लेते मौके पर पकड़ा।

बता दें कि राँची निदेशालय के बड़ा बाबू कृष्णकांत बरला गारू प्रखंड के बारेसाढ़ स्वास्थ्य उपकेन्द्र के एमपीडब्ल्यू संतोष कुमार से रिश्वत ले रहे थे। जहाँ उन्हें रंगे हाथ गिरफ्तार कर एसीबी की टीम अपने साथ ले गयी है।

गारू रेफरल अस्पताल के स्वास्थ्य कर्मी संजीव दुबे और संतोष कुमार पर गारू प्रखंड अंतर्गत कारवाई के ग्रामीणों ने स्वास्थ्य विभाग के कार्य मे लापरवाही और पैसा उगाही करने की शिकायत कर कारवाई की मांग की थी। हालांकि यह पूरा मामला शुरू से ही सवालों के घेरे में रहा चुकी संतोष कुमार बारेसाढ़ स्वास्थ्य उपकेंद्र में कार्यरत है और लापरवाही की शिकायत कारवाई गांव के ग्रामीणों ने की थी।

बहरहाल स्वास्थ्य विभाग के कार्यों में लापरवाही को लेकर विगत दिनों पूर्व रांची निदेशालय ने बारेसाढ़ उपस्वास्थ्य केंद्र में कार्यरत एमपीडब्ल्यू संतोष कुमार एवं गारू रेफरल अस्पताल में पदस्थापित लेखा प्रबंधक संजीव दुबे के नाम पत्र जारी कर स्पस्टीकरण की मांग की थी।

इस मामले को हल्का और आरोप को निराधार करने के एवज में स्वास्थ्य निदेशालय के लिपिक कृष्ण कांत बारला ने संतोष कुमार से पैसे की मांग की थी। इसकी शिकायत संतोष कुमार ने एसीबी की टीम से की। मामले की जांच में जुटी एसीबी की टीम ने रिश्वत के पैसे के साथ कृष्ण कांत बारला को गिरफ्तार कर लिया है।

Health directorate clerk bribe


Leave a Reply

Your email address will not be published.